Fri. Oct 22nd, 2021
Sadinama Rozana Bulletin - 5441 copy
Sadinama Oct to Dec 2020-21 Magazine Back copy
Sadinama Aug to Dec 2020-21 Magazine Front copy
2
4
7
9
13
15
12
10
11
20
21
22
26
28
37
39
40
45
46
Pic c
previous arrow
next arrow

About Us

This website is part of Sadinama Group.It is based in Kolkata,West Bengal. Sadinama Patrika.Sadinama Prakashan. Sadinama Rozana Bulletin, www.sundervan.comwww.safarnamah.com, and www.sadinama.in, are some mega projets of this group.Our Group Editor is Jitendra Jitanshu. this website is run by Writers, Poets, Historins of Various Languages of diffrent Countires.The aim of Website is- Making Creative World better for Tomorrow.Vision of Website is-Sadinama is thriving to make into world for better tomorrow along with facts of glorious pasts which is hard to find an any textbooks or websites. Our Website www.safarnama.com is also looking forward to designing any tourism experience in any Indian City based on Kali Circuit in Kolkata and based on museums, spiritual etc. subjects which makes a spellbound experience for our tourists. Tourism based on one subject in a city or state is hard to find anywhere that’s why we are taking up this project to showcase different places in a day or two for enthralling experience for tourists in any city or state. Projects on different places.In this website we are Providing Solo Travelling easy in India.

हमारे बारे में
सदीनामा जनवरी २००० से प्रकाशित होने वाली पत्रिका है| इसके संस्थापक सदस्यों में थे नीलम शर्मा ‘अंशु’, चंदन स्वप्निल और जीतेन्द्र ‘जितांशु’| अपनी व्यवसायिक प्रतिबद्धताओं के कारण यह टीम पहले दो संस्थापक अब सक्रिय नहीं हैं|
सदीनामा ने अपने को बहुआयामी किया है| आज इसकी तीन वेबसाईट हैं|
1. www.sundervan.com
2. www.safarnamah.com
3. www.sadinama.in
सदीनामा ने अपने प्रकाशन विभाग, सदीनामा प्रकाशन की शुरूआत पंजाबी पुस्तक डिभरी टाइट से की, जिसके लेखक लंदन रहने वाले कथाकार तेजेन्द्र शर्मा हैं| अभी तक १०० से ऊपर पुस्तकें प्रकाशित की गई हैं और यह क्रम लगातार जारी है|
भारत जैसे विविधतापूर्ण देश में संस्कृति, इतिहास और राष्ट्रीय समन्वयन की बहुत जरूरत है| यह काम सिर्फ सरकारों के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता| अतः विभिन्न प्रान्तों के रचनाकार, कलाकार, इतिहासकार इसे समृद्ध करेंगे| इसके अलावा एकल सांस्कृतिक यात्राएँ आयोजित करने की कोशिश भी रहेगी|